The Summer News
×
Tuesday, 18 June 2024

इंजेक्शन वाले तरबूज बिक रहे बाज़ार में, कैसे करें पहचान? जानें कितना खतरनाक है ऐसे इंजेक्शन वाले फल खाना

नई दिल्ली: गर्मियों के लिए तरबूज से बेहतर कोई दूसरा फल नहीं है। लेकिन इंजेक्शन वाला तरबूज खाने से आपकी किडनी, लीवर पर असर पड़ सकता है। गर्मी का मौसम आ गया है और इसी के साथ आता है तरबूज का मौसम, जिसे गर्मियों का सबसे सेहतमंद फल माना जाता है।


तरबूज एक ऐसा फल है जिसमें 92% पानी और 6% चीनी होती है। गर्मियों में तरबूज का सेवन फायदेमंद माना जाता है क्योंकि इसमें फाइबर की मात्रा अधिक होती है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस मौसम में बाजार में ऐसे तरबूज भी खूब मिलते हैं, जिन्हें इंजेक्शन के जरिए लाल और सुंदर बनाया जाता है? आम लोगों के लिए इंजेक्शन के जरिए तरबूज को पहचानना आसान नहीं होता।
आमतौर पर तरबूज को असाधारण रूप से लाल और रसीला दिखाने के लिए उसमें डाई का इंजेक्शन लगाया जाता है।


असाधारण रूप से लाल और रसीला। कई बार, इसे तेजी से बढ़ने के लिए इसमें ऑक्सीटोसिन का इंजेक्शन लगाया जाता है। रासायनिक रूप से इंजेक्ट किए गए ये फल स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक हो सकते हैं।


आश्चर्य है कि कैसे पहचानें कि किस तरबूज में इंजेक्शन लगाया गया है? यहाँ बताया गया है कि यह कैसे किया जा सकता है:


इंजेक्शन वाले तरबूज में नाइट्रेट, कृत्रिम रंग (लेड क्रोमेट, मेथनॉल पीला, सूडान लाल), कार्बाइड, ऑक्सीटोसिन जैसे रसायन हो सकते हैं, जो इसे आंत के स्वास्थ्य के लिए बेहद अस्वास्थ्यकर बनाते हैं। इंजेक्शन वाले फल खाने के कुछ नुकसान निम्नलिखित हैं, जो आपके स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव डाल सकते हैं:


* तरबूज को जल्दी उगाने के लिए कई बार नाइट्रोजन का इस्तेमाल किया जाता है। अगर यह नाइट्रोजन आपके शरीर में चला जाए तो यह बहुत नुकसानदायक हो सकता है क्योंकि इसे जहरीला तत्व माना जाता है।


* तरबूज को बेहतरीन लाल रंग देने के लिए अक्सर लेड क्रोमेट, मेथनॉल येलो, रेड जैसे आर्टिफिशियल रंगों का इस्तेमाल किया जाता है। इन हानिकारक रसायनों के साथ तरबूज खाने से फूड पॉइजनिंग हो सकती है।


* बहुत सारे तरबूज कार्बाइड से पकाए जाते हैं। यह कार्बाइड लीवर और किडनी के लिए इतना खतरनाक होता है कि कुछ स्थितियों में व्यक्ति की किडनी को काफी हद तक नुकसान पहुंच सकता है।


सफेद पाउडर की जांच करें: कई बार आपको तरबूज की ऊपरी सतह पर सफेद और पीले रंग का पाउडर दिखाई देगा। आप इसे धूल समझकर झाड़ देंगे, लेकिन यह पाउडर कार्बाइड हो सकता है, जिससे फल जल्दी पक जाता है। इन कार्बाइड का इस्तेमाल आम और केले पकाने में भी किया जाता है। इसलिए तरबूज को काटने से पहले उसे पानी से अच्छी तरह धोना चाहिए।


क्या तरबूज बहुत लाल है? अक्सर इंजेक्शन वाले तरबूज बहुत लाल दिखाई देते हैं। इसे काटते समय आपको लालिमा और मिठास सामान्य से ज़्यादा महसूस होगी। साथ ही, बीच में पहुँचने पर आपको केमिकल की वजह से हल्के जले हुए निशान दिखाई देंगे।


इंजेक्शन वाले तरबूज से बचने का सबसे अच्छा तरीका ऊपर बताए गए संकेतों को पहचानना है। इसके अलावा एक तरीका यह भी है कि बाजार से तरबूज खरीदने के बाद उसे कम से कम 2-3 दिन के लिए छोड़ दें। तरबूज कई हफ़्तों तक खराब नहीं होते, इसलिए उन्हें 2-4 दिन तक ऐसे ही छोड़ देने में कोई बुराई नहीं है। इन 2-4 दिनों में अगर आपको तरबूज की सतह से कोई झाग या पानी निकलता हुआ दिखे, तो इसका मतलब है कि उसमें केमिकल इंजेक्ट किया गया है।

Story You May Like